“ब्राह्मणवाद को खत्म करो, AK-47 उठा लो”, Unacademy जैसी ऑनलाइन एडुकेशन Apps पर टीचर्स जमकर छात्रों को भड़का रहे हैं

Uncategorized

जैसे-जैसे 21वीं सदी में तकनीक का विकास हो रहा है, वैसे-वैसे डिजिटल शिक्षा का भी विकास हो रहा है। वुहान वायरस के कारण डिजिटल शिक्षा का महत्व और भी अधिक बढ़ चुका है। परंतु कुछ लोग इस नेक अभियान को अपने काम से कलंकित करना चाहते हैं, और ऐसे लोग डिजिटल एप्स से जुड़कर बच्चों और युवाओं में वैमनस्य को बढ़ावा दे रहे हैं।

ऐसे ही कुछ वीडियोज़ सामने आए, जब ‘Unacademy’ से जुड़े कुछ शिक्षकों की वीडियो वायरल होने लगी। इनमें से एक व्यक्ति का वीडियो @Being_Humor ने शेयर किया, जो कथित तौर पर Unacademy से संबन्धित है, और जिसने ब्राह्मणों को वीडियो में बहुत खरी खोटी सुनाई। जातिवाद पर व्याख्या देते हुए इस शिक्षक ने ब्राह्मण जाति को गालियां देने में, उन्हें धूर्त और कपटी कहने में कोई कसर नहीं छोड़ी।

Hello @unacademy looks like your teachers are not even 8th pass.. saying things which are no where written or claimed by anyone. How’s this even allowed 🤷🏻‍♂️. They are ruining coming generations. @unacademy should be shut down immediately. pic.twitter.com/8qEZSKkhiZ

— mthn (Expert) (@Being_Humor) September 2, 2020

परंतु बात यहीं पर नहीं रुकती। Unacademy से जुड़े एक और शिक्षक वरुण अवस्थी तो इस व्यक्ति से दस कदम आगे निकलते हुए बच्चों को एके 47 उठाने के लिए उकसाने लगा। SSC रेलवे के रिज़ल्ट के विलंब के विरोध में बनाए गए वीडियो में वरुण ने ये विष उगला था। ट्विटर अकाउंट Angry Saffron द्वारा पोस्ट किए गए एक वीडियो में वरुण कहते हुए दिखाई दे रहे हैं, “जिस तरह महात्मा गांधी कह गए थे कि हिंदुस्तान की आत्मा गांवों में बस्ती है, जब तक गांवों का विकास नहीं करोगे, हिंदुस्तान का विकास नहीं होने वाला। वैसे ही मोदी जी इतना जान लो अगर देश को नहीं झुकने देना है न, तो इस युवा को अपने साथ लेके चलना है, नहीं तो वो दिन दूर नहीं के जिस वजह से आपने जम्मू कश्मीर को ब्लॉक किया है न उधर से, यहाँ पर हर युवा कलम छोड़के एके 47 पकड़ लेगा”।

हालांकि, वरुण ने ये वीडियो तुरंत अपने फेसबुक अकाउंट से हटा ली, परंतु तब तक बात आग की तरह फैल चुकी थी। लोगों ने #BoycottUnacademy को ट्विटर पर ट्रेंड कराना शुरू कर दिया। स्वयं Unacademy को ट्विटर पर वरुण की निंदा करते हुए बयान जारी करना पड़ा, जहां उन्होंने लिखा, “Unacademy ऐसे किसी कंटैंट को बढ़ावा नहीं देता, जो घृणात्मक या गैर कानूनी व्यवहार को बढ़ावा दे। हम ऐसी गतिविधियों की निंदा करते हैं, और अपने शिक्षकों को हर स्थिति में कानून का पालन करने का निर्देश देते हैं। हम इस मामले की जांच कर रहे हैं और त्वरित एक्शन भी लेंगे”।

परंतु ठहरिए। ऐसा बिलकुल भी मत समझिएगा कि यह बीमारी केवल Unacademy तक ही सीमित है। Bhutesh sir नामक व्यक्ति ने e1 coaching center नामक यूट्यूब चैनल पर SSC रेलवे भर्ती की परीक्षा के विरोध में एक वीडियो पोस्ट किया, जिसमें उन्होंने जमकर वर्तमान केंद्र सरकार को खरी खोटी सुनाई, और सनातन संस्कृति का अपमान भी किया। वीडियो के अनुसार, “तुम्हें मंदिर बनाके दिया और तुम्हें ज़िंदगी में क्या चाहिए? अयोध्या में मंदिर बन गया, उसका पूजन हो गया और इस से बड़ा मुद्दा क्या है? यदि इन्होंने युवाओं को जॉब देना शुरू कर दिया तो हिन्दू और मुस्लिम में लड़ाई कौन कराएगा? फिर कोई इनका गंदा काम कराने के लिए उपलब्ध तो होगा नहीं”।

एक शिक्षक का काम होता है अपने बच्चों को प्रगति के पथ पर आगे बढ़ने की राह दिखाना, उसे अंधकार में धकेलना नहीं। जिस तरह डिजिटल शिक्षा के क्षेत्र में ऐसे वामपंथी लोग डेरा जमाने के उद्देश्य से घुसे हैं, उसपर जल्द ही प्रशासन और शैक्षणिक जगत के लोगों को ठोस कदम उठाने चाहिए, अन्यथा ये लोग ऐसे ही विष घोलते रहेंगे, और बच्चे गलत राह पर चल पड़ेंगे।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *