प्रीमच्योर इजैक्युलेशन यानी शीघ्रपतन से छुटकारा दिलाएगी यह कॉन्डम ट्रिक

प्रीमच्योर इजैक्युलेशन यानी शीघ्रपतन। यह एक ऐसी समस्या है जिससे ज्यादातर पुरुष परेशान हैं। सेक्स के दौरान जब ऑर्गेज्म से पहले ही वीर्य स्खलन हो जाए तो उस स्थिति को शीघ्रपतन कहा जाता है। प्रीमच्योर इजैक्युलेशन का अगर सही समय पर इलाज न कराया जाए तो इसके परिणाम घातक हो सकते हैं।
वैसे तो इसके इलाज के लिए आप सेक्स एक्सपर्ट या किसी अच्छे डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं। लेकिन एक ट्रिक है जिससे प्रीमच्योर इजैक्युलेशन से निजात मिल सकती है। यह ट्रिक मेनॉपॉज और हॉर्मोनल चेंजेस अफेक्टिंग लिबिडो में एक्सपर्ट डॉक्टर शहजादी हार्पर ने दी है।

डेली स्टार ऑनलाइन से बातचीत में डॉक्टर ने कहा कि अगर कोई शख्स शीघ्रपतन की समस्या से ग्रस्त है और ऑर्गेज्म की अवस्था तक पहुंचने से पहले ही वीर्य स्खलन हो जाता है तो उसे सेक्स के दौरान दो कॉन्डम पहनने चाहिए ताकि सेंसिटिविटी कम हो जाए। अगर सेक्स के दौरान परफॉर्मेंस को लेकर चिंतिंत हैं तो उस स्थिति में सेक्स से आधे घंटे पहले सिलेक्टिव सेरॉटोनिन रीअपटेक इन्हिबिटर्स (SSRIs – Selective serotonin reuptake inhibitors) ले सकते हैं।


शीघ्रपतन की समस्या से निजात पाने के लिए कुछ और उपाय भी हैं, जो यहां बताए जा रहे हैं:
– सेक्स करने से कैलोरी ऊर्जा की खपत होती है। इसलिए बीच-बीच में ऊर्जा देने वाले ग्लूकोज, जूस, दूध आदि को लेते रहना चाहिए। इस उपाय को करने से शीघ्रपतन की समस्या से बचा जा सकता है।

– सेक्स के दौरान स्खलन आपकी इच्छा से पहले हो रहा है तो डॉक्टर से मिलकर इस समस्या के बारे तुरंत बात करें। अक्सर देखा जाता है कि लोग इसे हल्के ले लेते हैं और सोचते हैं कि यह समस्या अपने आप ठीक हो जाएगी। ऐसा सोचना पूरी तरह गलत है। इसलिए इसका सही समय पर कराएं।

– सेक्स से एक घंटे पहले हस्थमैथुन करने से शीघ्रपतन की समस्या से निजात पा सकते हैं।

– सेक्स से पहले कम से कम 15 मिनट तक फोरप्ले करें। यह शीघ्रपतन पर काबू करने का अच्छा तरीका है।


– दिन में 2-3 बार कीगल एक्सर्साइज करने से भी आप शीघ्रपतन से छुटकारा पा सकते हैं।

– सेक्स के दौरान आपको लगे कि स्खलित होने वाले हैं, तभी लिंग को बाहर निकालकर उसके अगले हिस्से को कुछ देर के लिए दबाएं। ऐसा करने से शीघ्रपतन नहीं होगा।
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *