भारतीय वायुसेना को मिला सबसे खतरनाक हेलीकॉप्टर अपाचे, चीन-पाक बॉर्डर पर होगी तैनाती

New Delhi: भारतीय वायुसेना को शनिवार को अपना पहला लड़ाकू हेलीकॉप्टर अपाचे गार्जियन मिल गया है। इसका निर्माण अमेरिका के एरिजोना में हुआ है। भारत ने अमेरिका के साथ 22 ऐसे हेलीकॉप्टर के लिए अनुबंध किया था।

इससे पहले वायुसेना को चिकून हैवीलिफ्ट हेलीकॉप्टर मिल चुका है। बोइंग एएच-64 ई अपाचे को दुनिया का सबसे घातक हेलीकॉप्टर माना जाता है। पिछले साल अमेरिका ने भारतीय सेना को छह एएच-64 ई हेलीकॉप्टर देने के समझौते पर हस्ताक्षर किया था। इसे चीन और पाकिस्तानी सीमा पर तैनात किया जाएगा।

मेरिका से 15 चिनूक और 22 अपाचे हेलीकॉप्टर खरीदने के सौदे को भारत ने मंजूरी दे दी थी। पीएम मोदी की अमेरिका यात्रा के दौरान करीब 19500 करोड़ रुपए के इस सौदे पर हस्ताक्षर हुए थे।

अपाचे हेलीकॉप्टर की खासियतें : 16 फुट ऊंचे और 18 फुट चौड़े अपाचे हेलीकॉप्टर को उड़ाने के लिए दो पायलट होना जरूरी है।- अपाचे हेलीकॉप्टर के बड़े विंग को चलाने के लिए दो इंजन होते हैं। इस वजह से इसकी रफ्तार बहुत ज्यादा है। अपाचे हेलीकॉप्टर 280 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से उड़ सकता है। इस हेलीकॉप्टर का डिजाइन ऐसा है कि इसे रडार की मदद से पकड़ना मुश्किल होता है। एक बार में लगातार तीन घंटे तक उड़ान भर सकता है। 16 एंटी टैंक मिसाइल छोड़ने की क्षमता से लैस हेलीकॉप्टर के नीचे लगी राइफल में एक बार में 30 MM की 1,200 गोलियां भरी जा सकती हैं।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *