कश्मीर में सेना को बड़ी सफलता, जैश-ए-मोहम्मद का कु’ख्यात आ’तंकी हिलाल गिर’फ्तार

New Delhi :  सुरक्षाबलों ने सोमवार को सर्च ऑपरेशन के दौरान अनंतनाग जिले के डोरु इलाके से आतं’की संगठन ‘जैश-ए-मोहम्मद’ के एक आतं’कवा’दी को गिर’फ्तार किया। आतं’की की पहचान हिलाल नाइकू के रूप में हुई। इसके अलावा सुरक्षाबलों ने ऊधमपुर के हराह से दो संदिग्ध आ’तंकि’यों को गिर’फ्तार किया।

इनके पास से एके-47 रा’इफल और कार’तूस मिले हैं। सुरक्षाबलों ने इंटेलिजेंस इनपुट्स से मिली जानकारी के बाद आतं’कवा’दी को गिर’फ्तार किया। सुरक्षा एजेंसियों को आतं’की के पाकिस्तान के संपर्क में होने और कश्मीर की आतं’की वारदातों में शामिल होने का शक है।

इस साल अभी तक सुरक्षाबलों ने अभी तक 85 आ’तंकी मा’र गि’राए हैं। इससे कुछ दिन पहले भी शोपियां के इमाम साहब में तीन आ’तंकी मा;रे गए थे। ये आ’तंकी एक तीन मंजिला बिल्डिंग में छिपे थे।  इससे पहले  25 अप्रैल को दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग जिले के बिजबेहारा कस्बे में सुरक्षाबलों ने दो आ’तंकियों को मा’र गिराया था। इस एन’काउंट’र में बीजबेहारा के सफदर अमीन और अनंतनाग के बुरहान को मा’र गिरा’या गया था।

इससे पहले 13 अप्रैल को शोपियां में सेना ने दो आ’तंकियों को मा’र गिराया था। 6 अप्रैल को भी शोपियां के इमाम साहिब इलाके में सेना ने दो आ’तंकियों का मा’र गिराया था। 28 मार्च को भी सुरक्षा बलों ने शोपियां और हंदवाड़ा में पांच आ’तंकियों को मा’र गिराया था। 3 मई को सुरक्षाबलों ने शोपियां में ही तीन आ’तंकियों को मा’र गिराया था। इसमें हिजबुल मुजाहिदीन का कमांडर लतीफ टाइगर भी शामिल था। टाइगर उन 10 आ’तंकियों में आखिरी कमांडर था, जो बुरहान वानी से जुड़े थे। 2015 में हिजबुल कमांडर रहे बुरहान वानी के साथ आ’तंकियों की एक तस्वीर जारी हुई थी। सुरक्षाबलों ने 8 जुलाई 2016 में बुरहान वानी को मा’र गिराया था। बाद में उसकी गैंग के सारे साथी भी मा’रे गए थे।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *